Home राजनीतिक षड्यंत्र दिल्ली सरकार ने दिए मनोज तिवारी पर एफआइआर दर्ज कराने के निर्देश

दिल्ली सरकार ने दिए मनोज तिवारी पर एफआइआर दर्ज कराने के निर्देश

Visitors have accessed this post 103 times.

नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के मौके पर हुआ विवाद राजनीतिक रंग लेता जा रहा है। चल रहे आरोप-प्रत्यारोप के बीच अब दिल्ली के गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने भाजपा सांसद मनोज तिवारी और उनके साथ घटनास्थल पर मौजूद रहे पार्टी कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं। जैन ने इस संबंध में प्रधान गृह सचिव का काम देख रहे अतिरिक्त मुख्य सचिव मनोज परीदा को पत्र लिखकर कहा है कि पुलिस आयुक्त, संबंधित डीसीपी और पुलिस स्टेशन में औपचारिक शिकायत दर्ज कराएं।

जैन ने पत्र में सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन का जिक्र करते हुए कहा कि इसका उद्घाटन पूर्व निर्धारित था। इसके लिए गृह विभाग नोडल एजेंसी था। समारोह स्थल पर सुरक्षा के इंतजाम सहित अन्य इंतजामों के लिए सभी संबंधित विभागों और एजेंसियों को पहले से सूचना भेजी जा चुकी थी।

ऐसे में सांसद मनोज तिवारी और पार्टी कार्यकर्ताओं ने उद्घाटन अवसर पर पहुंचकर कार्यक्रम को अव्यवस्थित करने की कोशिश की। न केवल उन्होंने कार्यक्रम में उपद्रव फैलाया बल्कि वहां तैनात पुलिस और दिल्ली सरकार के अधिकारियों को परेशान करते हुए उन्हें उनकी डयूटी करने से रोका। उन्होंने कहा कि ऐसा कार्यक्रम जहां मुख्यमंत्री मौजूद हों और उनकी मौजूदगी में इस तरह की घटना हो, यह सोचने का विषय है।

जब मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात एक कर्मचारी ने सांसद को समारोह स्थल से चले जाने के लिए कहा तो वे और उनके कार्यकर्ता उग्र हो गए। इसके बाद सांसद ने न केवल कार्यक्रम में बाधा पहुंचाई बल्कि अधिकारियों को भी धमकाया।

संजय सिंह ने लिखा पुलिस आयुक्त को पत्र
सिग्नेचर ब्रिज मामले को लेकर आप से राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को पत्र लिखा है। पत्र में सिंह ने कहा कि सिग्नेचर ब्रिज मामले की जानकारी अब पूरी तरह से सार्वजनिक हो चुकी है। सांसद मनोज तिवारी और भाजपा कार्यकर्ताओं ने वहां क्या किया, इसके वीडियो और स्टिल फुटेज से सारी स्थिति स्पष्ट है। उन्होंने कहा है कि वहां मनोज तिवारी और उनके कार्यकर्ताओं ने उपद्रव मचाया।